Tuesday, February 26, 2013

समय चक्र


जगाता रहा

समय का चाबुक

जन जन को !

निगाहों पर

तश्वीरों के निसान

उभर आते !

सोई आँखों में

सपने बनकर

बिचरते हैं !

संकेत देते

बढ़ते कदमो को

संभलने का !

इंसानी तन

लिप्त था लालसा में

नजरें फेरे !

संभले कैंसे

रफ़्तार पगों की

बेखबर दौड़े ! रचना – राजेन्द्र सिंह कुँवर ‘फरियादी’



आँखि खोल द्या बक्त ऐगी देख्णो आँखि खोल द्या बक्त ऐगी बोनो  भट्याकी बोल द्या अदलि बदलि देख्ला कब तैं अब त बटोल द्या! बक्त ऐगी देख्णो आ...