Wednesday, July 18, 2018

नींबू को स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक माना जाता है। विशेषकर पेट से संबंधित समस्याओं के लिए नींबू का प्रयोग अनेक तरीकों से किया जाता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं नींबू के ऐसे ही कुछ घरेलू प्रयोग जिनसे आप कई  छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पा सकते हैं।


- पेट साफ नहीं हो रहा हो या पेचिश हो, तो प्याज के रस में कागजी नींबू का रस मिलाएं। इसमें थोड़ा-सा पानी डालकर पीएं, लाभ होगा।

- स्कर्वी रोग में नींबू श्रेष्ठ दवा का काम करता है। एक भाग नींबू का रस और आठ भाग पानी मिलाकर रोजाना दिन में एक बार लें।

- नींबू के रस में थोड़ी शकर मिलाएं। इसे गर्म कर सिरपनुमा बना लें। इसमें थोड़ा पानी मिलाकर पिएँ। पित्त के लिए यह अचूक औषधि है।

 आधे नींबू का रस और दो चम्मच शहद मिलाकर चाटने से तेज खांसी, श्वास व जुकाम में लाभ होता है।

- नींबू ज्ञान तंतुओं की उत्तेजना को शांत करता है। इससे हृदय की अधिक धड़कन सामान्य हो जाती है। उच्च रक्तचाप के रोगियों की रक्तवाहिनियों को यह शक्ति देता है।

-  एक नींबू के रस में तीन चम्मच शकर, दो चम्मच पानी मिलाकर, घोलकर बालों की जड़ों में लगाकर एक घंटे बाद अच्छे से सिर धोने से रूसी दूर हो जाती है व बाल गिरना बंद हो जाते हैं।

- एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर सेंधा नमक मिलाकर सुबह-शाम दो बार नित्य एक महीना पीने से पथरी पिघलकर निकल जाती है।

- चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के लिए नींबू की कुछ बूंदें दूध में डालें। रूई भिगोकर चेहरा चमकाएं।

- नींबू को नमक तथा काली मिर्च के साथ चाटें। यह भोजन से पूर्व चाटना है। तब अधिक भूख लगा करेगी।

- यदि दस्त लगे हों तो दूध में नींबू का रस 8-10 बूंद डालकर मिलाकर रोगी को पिलाएं। यह बहुत लाभकारी रहता है। दिन में चार बार लेवें। अधिक फायदा होगा। एक गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़ें। रोगी इसे पी ले। दिन में चार बार ऐसी खुराक लें।

- सुबह-शाम एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर पीने से मोटापा दूर होता है।

-एक गिलास पानी में एक नींबू निचोड़कर पीते रहने से नेत्र ज्योति ठीक रहती है।


Friday, July 13, 2018

गौं घौर गुठ्यारों मा आज भी
डाळयोँ कु छैल पसरयूँ च!
सरकी च आफु आपरी खुट्टीयोंन्
यू मंख्यों कु दोष च मंखि हरच्युं च!

पोथ्लियों कु चुंच्याट, नुन्यारों कु घुंघ्याट
गाड-गदरियों कु सिंस्याट
आज भी जुकुडी बुथ्योंणु च!
शहरूँन् लल्चाई मंखि कु ज्यू
देखा धौं ज्यू आज खुदेंणु च! @ - राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'

Wednesday, April 18, 2018

अपना ब्लॉग कैसे बनाएं तथा कैसे संजोएं How to make one's blog and maintain it



अपना ब्लॉग कैसे बनाएं? [How to make your own blog?] यह प्रश्न www पर पूछा जाता रहा है और हम भी यदा-कदा  इस प्रश्न से दो-चार हो जाते हैं IndianTopBlogs पर या फिर ईमेल पर. 

सच पूछिये तो दो प्रश्न  साथ  चलते हैं:  ब्लॉग कैसे बनाएं (How do I create a blog) तथा ब्लॉग को कैसे संजोएं (Ho do I maintain my blog) क्योंकि एक ब्लॉग बना देना तो बहुत मुश्किल नहीं है और हम नीचे बता रहे हैं कि कैसे बिना किसी खर्च के और बिना टेक्नोलॉजी के ज्ञान के करीब 30 मिनट में ही एक ठीक-ठाक ब्लॉग बनाया जा  सकता  है. बात रही ब्लॉग को खूबसूरत बनाने की, उसे ठीक से आगे बढ़ाने की, ब्लॉगिंग से धन कमाने की - इन सब  के लिए समय देना होता है, अनुशासन में रहकर काम करना होता है और बिना धैर्य खोए आगे बढ़ते रहना होता है. दोनों विषयों पर हम आपको अपनी सहभागी वेबसाइट IndianTopBlogs, के लिंक्स पर ले जाएंगे, लेकिन पहले देख लें ब्लॉग बनाने का सरल और कामगार नुस्खा.

नए ब्लॉगर साथियों के लिए तो यह उपयोगी होगा ही, पुराने साथी भी इसका लाभ अपने ब्लॉग को अधिक प्रभावी बनाने के लिए कर सकते हैं:


आज हमारे दिन की शुरवात ही चाय से होती है। क्या आपको स्पेशल चाय पसंद है? स्पेशल चाय के लिए चाय मसाला भी तो स्पेशल ही चाहिए न! चाय के लिए कहा जाता है कि "सुस्ती हटावें, स्फुर्ति दिलावे, सकल दर्द मिट जाय, जगत में चाय बड़ी बलवान!” तो आइए, आज हम बनाते है, चाय मसाला।

सामग्री-
• सौंठ-                     125  ग्राम
• काली मिर्च-             50  ग्राम
• लौंग-                      25  ग्राम
• इलायची-                25  ग्राम
• जायपत्री-                10  ग्राम
• कलमी (दालचीनी)- 25  ग्राम

विधि- How to make tea masala
• सभी मसालों को अच्छे से साफ़ कर लीजिए।
• दालचीनी को छोड़ कर बाकी मसाले कढ़ाई में डाल कर थोड़ी देर भून लीजिए। जब मसाले थोड़े से सीक जाए तब दालचीनी डाल कर दो मिनट और भून लीजिए।
• मसाले को ठंड़ा होने पर मिक्सर में बारिक पीस लीजिए।
 अब किसी एयर टाइट डब्बे में भर कर रख लीजिए। जब भी आपको चाय बनानी हो, स्वादानुसार स्पेशल चाय मसाला डाल कर चाय बनाइए। इस चाय मसाले से चाय एकदम स्वादिष्ट लगती है। 
• यह मसाला कई महिनों तक खराब नहीं होता।
टिप-
मसालों को सेंक कर पीसने से खुशबू अच्छी आती हैं।


Friday, March 30, 2018

युवा उत्कर्ष साहित्यिक मंच द्वारा प्रदान की सम्मान पत्र। 


Friday, February 2, 2018

गीली मिट्टी
कभी आंखों में
नव अंकुर सी
रेखांकित कर देती 
पल-पल को
गीली मिट्टी!
सपने पलने लगते
अपने चलने लगते
एहसास दिला जाती
क्षण भर में
गीली मिट्टी!
लेना चाहता है स्वरूप
तेरे आगोश में छुप कर
टहलता हुआ जल
बदल देती है रूप
गीली मिट्टी!@ - राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'

Wednesday, November 15, 2017

आँखि खोल द्या
बक्त ऐगी देख्णो
आँखि खोल द्या
बक्त ऐगी बोनो 
भट्याकी बोल द्या
अदलि बदलि देख्ला कब तैं
अब त बटोल द्या!
बक्त ऐगी देख्णो
आँखि खोल द्या
बिस्त्रों मा न पाला यूँ तैं
अब त ख्खोड द्या
बक्त ऐगी बोनो
भट्याकी बोल द्या!
बक्त ऐगी देख्णो
आँखि खोल द्या
उगरा ग्ळयों अपरी खुटयों न
धोरा यूँ तै न औण द्या
बक्त ऐगी बोनो
भट्याकी बोल द्या!
बक्त ऐगी देख्णो
आँखि खोल द्या
कब तलक टक लागैकि
देख्ला ऊँ बाटियों
बक्त ऐगी बोनो
भट्याकी बोल द्या! @ - राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'

नींबू को स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक माना जाता है। विशेषकर पेट से संबंधित समस्याओं के लिए नींबू का प्रयोग अनेक तरीकों से किया जाता है। आज...