Tuesday, April 5, 2016

अंगारों सा कुछ यूँ जल रहा हूँ,


अब कौन सी राह मैं चल रहा हूँl 


अपना पराया है कौन यहाँ अब,


किसके लिए मैं यूँ पल रहा हूँl @ - राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'


~~~ ढुंगा ~~~ ढुंगा उठ्यां भी छन  ढुंगा छुप्याँ भी छन  ढुंगा फर्कणा भी छन  ढुंगा सर्कणा भी छन क्या बोन यूँ ढुंगों कु ढुंगा ढ...