Thursday, July 24, 2014

उँगलियाँ

हर जगह हर मंच पर
मंडराती नजर आती हैं
ये तेरी उँगलियाँ l

किसी खोजी पत्रकार की तरह
हर बार बेद जाती हैं 
ये तेरी उँगलियाँ l

मिटटी पानी धरा मानव की क्या बात करूँ मैं
उस मनोहारी चाँद तक जा पँहुची
ये तेरी उँगलियाँ l

क्या छूटा इन से आजतक
पाक गीता कुरान तक भी जा पँहुची
ये तेरी उँगलियाँ l


कब कहाँ किसने की रोकने की
कोशिश और कौन रोक पाया
ये तेरी उँगलियाँ ! -रचना -सर्वाधिकार सुरक्षित राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'



Best Stainless Steel Fabricators in India please call or contact us for more information We hold the expertise in manufacturing...