Saturday, May 3, 2014

संकोच तेरी आँखों में सब टकटकी लगाये पढ़ते हैं,

तूफ़ान ह्रदय का दीखता जिसे वो हम ही अकेले हैं @राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'


आँखि खोल द्या बक्त ऐगी देख्णो आँखि खोल द्या बक्त ऐगी बोनो  भट्याकी बोल द्या अदलि बदलि देख्ला कब तैं अब त बटोल द्या! बक्त ऐगी देख्णो आ...