मुख्या पृष्ट

Wednesday, April 16, 2014

लुटे हैं कई बार

डूब गया है मेरा भारत देखो चंद चेहरों में,

बिखर गया यहाँ का इंसान चुनावी घेरों में,

लुटे हैं कई बार बच बच के अपनों से, 

फंसे हैं  हर बार सागर सी लहरों में l  रचना @ राजेन्द्र सिंह कुँवर 'फरियादी'