Saturday, August 4, 2012

अँधेरा

कदम खुद ही चलते है 

अँधेरे के निशा ढूंढ़ने !

रोक न पायें जब खुद को,

हम अँधेरे को क्यों  दोष दें !

उजाला हर किसी की ओढनी,   

हम अँधेरे को ही ओढलें !

उजालों ने थकाया हमें 

निगाहों ने लुटाया हमें !

क़दमों ने भी पकड़ी वही राह,

फिर रास्तों को क्यों हम दोष दें !

मुस्कुराता है वो चाँद भी,

अँधेरी ही राह पर,

फिर जगमगाते तारों को,

हम क्यों  दोष दें ! .........रचना  - राजेन्द्र सिंह कुँवर  'फरियादी'






आँखि खोल द्या बक्त ऐगी देख्णो आँखि खोल द्या बक्त ऐगी बोनो  भट्याकी बोल द्या अदलि बदलि देख्ला कब तैं अब त बटोल द्या! बक्त ऐगी देख्णो आ...